भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंक और शून्य / अनुपम कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंक और शून्य
के बड़े ही गुण
अंक के विस्तार में
इस बड़े संसार में
सब कुछ जैसे खो गया
थक हार जग सो गया
शून्य की किसको पड़ी
है ये पर अंक से बड़ी
धोखा अंक का खा गया
जग इसी में समा गया
शून्य से हम आये हैं
शून्य को ही हम जाये हैं
अंक मन का भाव है
सब मगर अभाव है
शून्य की ही बस परिधि है
अंक तो बस वारिधि ही है
भवसागर जो पार करना है
शून्य से तो न डरना है
अंक के ही सब खेल हैं
समझने में हम फ़ेल हैं
अंक को राम-सलाम है
पर शून्य को प्रणाम है