भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंक में आकाश भरने के लिए / राजेन्द्र वर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंक में आकाश भरने के लिए,
उड़ चले हैं हम बिखरने के लिए ।

कौन जाने, क्या-से-क्या होंगे अभी,
पद-प्रतिष्ठा प्राप्त करने के लिए !

अब तो कौरव और पाण्डव एक हैं,
द्रौपदी का चीर हरने के लिए ।

धर्म की चटनी चखेंगे फिर कभी,
रोटियाँ दो पेट भरने के लिए ।

जाप मृत्युंजय का करता है वही,
जो है जीवित मात्र मरने के लिए ।