भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
अंगिका भाषा के विकास में रुचि रखने वाले व्यक्तियों और संस्थाओं से अनुरोध है कि अंगिका कविता कोश के विकास में हमारी सहायता करें
Dr-amrendra-kavitakosh-100.jpg
डॉ. अमरेन्द्र
सहायक सम्पादक
अंगिका विभाग
कविता कोश टीम
Rahul-shivay-kavitakosh-100.jpg
राहुल शिवाय
सहायक सम्पादक
अंगिका विभाग
कविता कोश टीम
अंगिका रचनाकार
बौद्ध कवि
संत कवि
आधुनिक-कालीन कवि
रामायण और महाभारत से सम्बंधित अंगिका काव्य
अंगिका भाषा
  • नाम: अंगिका को पहले छेकी-छिकी, आंगी, छाई-छोऊ, अंगिकार, छेकरी और ठेठी नामों से भी जाना जाता था।
  • क्षेत्र: अंगिका मुख्य-रूप से बिहार (जिला अररिया, कटिहार, पूर्णिया, किशनगंज, मधेपुरा, सहरसा, भागलपुर, सुपौल, बाँका, जमुई, मुंगेर, लखीसराय, बेगूसराय, शेख़पुरा व खगड़िया), झारखंड (जिला साहेबगंज, गोड्डा, देवघर, पाकुर, दुमका, गिरिडीह व जामतारा) और पश्चिम बंगाल (जिला मालदा, उत्तरी दिनाजपुर) में बोली जाती है।