भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंछरयों की राणी / केशव ध्यानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झूम-झमा झम, खुटों का झाँवर रे,
अंछर्यो[1] की राँणी आई, गीत गान्दरे।
नौ सोर मुरली बाजी, मोछंग[2] की धुन म
फूलू की पंखुड़ी, भौंर का गीतू म।
.......ओजी हो
धम-धमा-धम,
भौंरों की बरात रे
अंछर्यों की राँणी आई, फूल फुलान्दी रे।
बाँज की डाल्यों म आई, बुराँस का फूलू म,
फ्योंलि का फूलू म आई, झमकदा गीतू म।
....ओजी हो

छम-छमा-छम,
खुट्यों का झाँवर ये
अंछर्यों की राँणी आई, गीत गान्द रे।
लंग-लंगी डाल्यों म आई, रुम-झुम पातु म,
छुणक्यलि[3] दाथी म आई, घुगति[4] की घू घू म।
....ओजी हो

सर-सरा-सर, सर,
बथौं का दगड़ रे
अंछर्यों की राणी आई, मुल-मुल हैंसदी रे।
हो....हो.....हो!

शब्दार्थ
  1. परी
  2. एक गढ़वाली वाद्य यन्त्र
  3. बजती हुई
  4. एक पक्षी