भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंतः सलिला / अज्ञेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंत: सलिला

रेत का विस्तार

नदी जिस में खो गयी

कृश-धार :

झरा मेरे आंसुओं का भार

-मेरा दुःख-धन,

मेरे समीप अगाध पारावार –

उस ने सोख सहसा लिया

जैसे लुट ले बटमार।

और फिर अक्षितिज

लहरीला मगर बेटूट

सूखी रेत का विस्तार –

नदी जिस में खो गयी

कृश-धार।



किन्तु जब-जब जहाँ भी जिस ने कुरेदा

नमी पायी : और खोदा –

हुआ रस-संचार :

रिसता हुआ गड्ढा भर गया।

यों अनजान पा पंथ

जो भी क्लांत आया, रुका ले कर आस,

स्वल्पायास से ही शांत

अपनी प्यास

इस से कर गया :

खींच लंबी साँस

पार उतर गया।


अरे, अंत: सलिल है रेत :

अनगिनत पैरों तले रौंदी हुई अविराम फिर भी घाव अपने आप भारती,

पड़ी सहज ही,

धूसर-गौर,

निरीह और उदार! (1959 ,आँगन के पार द्वार )