भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंतोळो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोळै बरसां तांई
लगोलग
पोथ्यां रा पानां
फिरोळती रैयी ऐ आंख्यां
कीं कोनी हुयो
पण
आं दो बरसां में
“नो वेकेंसी – नो वेकेंसी”
पढतां-पढतां
आंख्यां कमजोर हुयगी
अबै कीं कोनी सूझै ।