भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंधारै रो बीज बणूं कीकर / रचना शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हैं सूरज सूं तूट’र
नाकै होयगी
पण अजै ई
अंधारै नैं कैवो
म्हनैं
मारग दीसै है
सैंग च्यानणो
म्हारी
बाट अडीकै है।