भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अकेले की नाव अकेले की ओर / शेषनाथ प्रसाद श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अकेले की नाव अकेले की ओर
Akele-ki-naav-akele-ki-or-kavitakosh.jpg
रचनाकार शेषनाथ प्रसाद श्रीवास्तव
प्रकाशक अयन प्रकाशन, 1/20, मेहरौली, नई दिल्ली 110030
वर्ष 2015
भाषा हिन्दी
विषय ओशो को संबोधित मेरे अंतर्भावों का संगुंफन
विधा मुक्त छंद
पृष्ठ 116
ISBN 978-81-7408-837-6
विविध रचना काल: बीसवीं सदी का उत्तरार्द्ध
इस पन्ने पर दी गई रचनाओं को विश्व भर के स्वयंसेवी योगदानकर्ताओं ने भिन्न-भिन्न स्रोतों का प्रयोग कर कविता कोश में संकलित किया है। ऊपर दी गई प्रकाशक संबंधी जानकारी छपी हुई पुस्तक खरीदने हेतु आपकी सहायता के लिये दी गई है।