भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अकेले / हावियर हिरॉद / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहाड़ों पर या समुद्र में
अकेले महसूस करो हवा, हवा
महसूस करो पेड़
और उजड़ी फसल।

चेहरे पर मुस्कुराहट हो
और आकाश छाया हो हमारे सिरों पर
चुप्पी छाई हो दक्षिण में
या पूर्व में
और एक नई नदी ने जन्म लिया हो।

बारिश हो रही हो
तेज़ हवा बह रही हो
ठण्ड काट रही हो चाबुक की तरह
समुद्र का तट हो
बिजली चमक रही हो
फिर भी मन में आशा हो
पहाड़ों पर या समुद्र में हो हम
अकेले, अकेले।

सिर्फ़ उसकी हँसी हो वहाँ
और मेरी आत्मा हो
सिर्फ़ मेरा अकेलापन हो
और उसकी चुप्पी हो।

मूल स्पानी से अनुवाद : अनिल जनविजय