भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अक्वेरियम में / पद्म क्षेत्री

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अक्वेरियम में
सपनों की रंग-विरंगी मछलियाँ
तैरती हैं
सारी रात
और प्रात:
घुटता है दम
मछलियों का
औक्सीजन- रहित पानी में .

सचमुच
सपनों की मछलियाँ
सोख लेती हैं
सारा औक्सीजन
और बना देती है विषाक्त
मेरी आँखों के अक्वेरियम का पानी !

फिर प्रात:
उंड़ेलकर सारा बासी पानी
भर लेता हूँ मैं अक्वेरियम
उर:स्थल की नादिका के
अभिमंत्रित जल से !

मूल नेपाली से अनुवाद: स्वयं कवि द्वारा