भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अखरोट का पेड़ / नाज़िम हिक़मत / प्रकाश के रे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरा सर घुमड़ता हुआ बादल है, भीतर-बाहर मैं समुद्र हूँ ।
मैं गुलख़ाना बाग़ में अखरोट का एक पेड़ हूँ,
गाँठों और दागों वाला एक पुराना अखरोट का पेड़.
तुम यह नहीं जानते और पुलिस को भी इस बात का पता नहीं.

मैं गुलख़ाना बाग़ में अखरोट का एक पेड़ हूँ ।
मेरी पत्तियाँ चमकती हैं पानी में मछली की तरह,
मेरी पत्तियाँ लहराती हैं रेशमी रुमाल की तरह ।
एक तोड़ लो, मेरे प्रिय, और अपने आँसू पोछ लो ।
मेरी पत्तियाँ मेरे हाथ हैं — मेरे पास लाख हाथ हैं ।
इस्तम्बूल, मैं तुम्हें छूता हूँ लाख हाथों से ।
मेरी पत्तियाँ मेरी आँखें हैं, और जो मैं देख रहा हूँ उससे क्षुब्ध हूँ ।
मैं तुम्हें देखता हूँ, इस्तम्बूल, लाख आँखों से
और मेरी पत्तियाँ धड़कती हैं, लाख दिलों के साथ धड़कती हैं ।

मैं गुलख़ाना बाग़ में अखरोट का एक पेड़ हूँ ।
तुम यह नहीं जानते और पुलिस को भी इस बात का पता नहीं ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : प्रकाश के रे