भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अख़बार / शंख घोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: शंख घोष  » अख़बार

रोज़
सुबह के अख़बार में
एक शब्द
बर्बरता

अपनी
सनातन अभिधा का
नित नया विस्तार
ढूँढ़ता है ।

मूल बंगला से अनुवाद : नील कमल