भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर इस ज़िन्दगी के पार जाना है / रंजना वर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगर इस ज़िन्दगी के पार जाना है।
सभी गम तो तुम्हें अपने भुलाना है॥

जमाने में है सारे स्वार्थ के रिश्ते
इन्हीं के साथ तुमको भी निभाना है॥

सुना मौसम यहाँ पतझार से है सब
सुमन उम्मीद का कोई खिलाना है॥

नहीं जानी मोहब्बत में वफ़ा जिसने
उसी के साथ अब जीवन बिताना है॥

चलो छोड़ो भी ये संसार की बातें
हमें किस्सा तुम्हें अपना सुनाना है॥

सुना इतिहास दोहराया सदा जाता
इसी को तो हमें भी आजमाना है॥

बहुत देखे जमाने के चलन यारों
चलन कोई नया हम को चलाना है॥