भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर परिश्रम करें गधे तो / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गधेराम ने सौ में से सौ,
पूरे नंबर पाए।
खुशियों के मारे चिल्लाए,
चिल्लाकर बौराए।

उनकी माँ ने पूछा बेटे,
आज ख़ुशी यह कैसे?
जीत लिया है युद्ध कहीं क्या,
पानीपत का जैसे?

बोला गधा अरी ऐसी ये,
बात नहीं है अम्मा।
दुनियाभर के लोग गधे को,
कहते सदा निकम्मा।

पर माँ मैंने सौ में से सौ,
पूरे नंबर पाए।
और गधेपन के स्तर से,
ऊंचा उठकर आए।

अगर परिश्रम गधे करें तो,
ऊंचा पद पा सकते।
रॉकेट लेकर चंदा मामा,
के घर तक जा सकते॥