भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगूंण कानी आंख / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चौफेर रात रो राज
दडूकै डाकी अंधारो

थर-थर धूजतो म्हैं
रात काटूं
अगूण कानी आंख करियां

चिडकल्यां री चीं-चीं सुण
जी में जी आवै
होळै-होळै भाख फाटै

अगूण में पसरण लागै उजास….