भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगूण गोखै ऊभी बडभागण देखो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगूण गोखै ऊभी बडभागण देखो
लोटो ढाळै आ भोर सुहागण देखो

ऐ रसिया, बोलो तो आंनै कुण बरजै
बांरू मास रंग रच्यो फागण देखो

धरती कारखानै री सीटी सुण परो
औ सूरज लाग्यो पाछो भागण देखो

समंदर छोड नित आणो पडै़ पाछो
रात-रात भर देवै आ जागण देखो

घूम-घूम सूरज जग नै बांटै उजास
अठै सूं टुर्‌यो आ ठौड़ सागण देखो