भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अच्छे-अच्छे गीत बिचारे / शिवम खेरवार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अच्छे-अच्छे गीत बिचारे,
बेच रहे हैं बेर।

बचपन से 'कम्पोस्ट' डालकर,
बड़े किए.
मालिश कर ख़ुद के पैरों पर,
खड़े किए.

'बोन चाइना' ने मिट्टी की,
करी क्वालिटी ढेर।

भेड़-बकरियों की नगरी में,
ज़ातों में,
ही-ही, हा-हा चलता रहता,
बातों में,

कउए कोयल पर करते हैं,
हँसी-हँसी में छेर।

क्रीम, पाउडर, तेल लगा ठग,
मिलता है।
गंजों के सिर पर विग कितना,
खिलता है।

जड़ें जमाता घूम रहा है,
मिट्टी में अंधेर।