भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अजनबी / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बारिश हो रही है
वो अजनबी जो मुझसे मिलने आता है

उसके नाजुक क़दम
ज़मीन पर पड़ रहे हैं

- वर्तमान की तरह एक फ़ासले से -

बारिश हो रही है
कोई अदृश्य
मेरी खिड़की पर दस्तक दे रहा है

ओ मेरे दिल यहीं रुके रहो
आसमान में लटके
भरे हुए बादल की तरह

जिसने अभी-अभी बरसना सीखा है ।