भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अजब नहीं जो करे दिल में शेख़ की तासीर / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अजब नहीं जो करे दिल में शेख़ की तासीर
अगर मुक़द्दमए-इश्‍क़ कूँ करूँ तहरीर

जुनून-ए-इश्‍क़ हुआ इस क़दर ज़मीं को मुहीत
कि पारसा कूँ हुई मौज-ए-बोरिया ज़ंजीर

ज़बान-ए-क़ाल नहीं तिफ़्ल-ए-अश्‍क कूँ लेकिन
ज़बान-ए-हाल सूँ करते हैं इश्‍क़ की तक़रीर

सफ़े पे चेहरा-ए-उश्‍शाक़ के मुसव्विर-ए-इश्‍क़
जिगर के ख़ूँ सों लिखा तिफ़्ल-ए-अश्‍क की तस्‍वीर

गली सूँ नेही की क्‍यूँ जा सकूँ 'वली' बाहर
हुई है ख़ाक परी रू की रह की दामनगीर