भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अज्ञात आखर / राजेन्द्र देथा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पिछले कुछ वर्षों से
ह्रदय के बाएं निलय वाले
दरवाजे की दायीं तरफ
सुरक्षित सहेज रखे है कुछ
"अज्ञात आखर"
लंबे समय के लिए,नहीं चाहता मैं कि
ये अज्ञात आखर ज्ञात हो जाए समय से पहले
और क्षय हो जाए इन समस्त का क्षण भर में
इनदिनों जीवन के जजमानों का आसन इन्हीं के पास है!