भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अतीत बीता / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

52
अतीत बीता
क्यों रोया जाए सदा
चलो आज तो जी लें
फटा जो दिल
उसको आज सी लें
तुझे देख मुस्काएँ।
53
'मेरे अधर
देखो मद से भरे
मैं रातभर जगी'
ऊषा यूँ बोली-
धो उदासी मन की
हँसो चूम लो मुझे।
54
बिछुड़े साथी,
जिनकी राहें मुड़ी
जहाँ खिली चाँदनी;
साथ वे बचे
ग्रंथि-बन्धन किया
मन से मन सदा।
55
सूखी घास ही
जले पलभर में
ईर्ष्यालु जन -जैसी
बचे रहेंगे
हम ठहरे लौह
पिंघलेंगे,जलें ना।
56
तय किया था
हमने मिलकर
फूलों- सा खिलकर,
जुदा न होंगे
भूल गए हो तुम
राह देखते हम।
-0-