भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अथ शुम्भ-निशुम्भोपाख्यान / अनिल अनलहातु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सहस्राब्दियों के अपमान
और गुस्से को
ढोलक की थाप पर निकालते हुए
हम एक आर्त रुदन में
नाचते हैं;
ढोलक और नगाड़ा पीटते हुए
लेते हैं बदला अपने अपमान का,
जलालत का,
गुस्से में पीटते चमड़े के ढोल को
औ’
नाचते हैं
“या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता”
……………………………………
किन प्राणियों में संस्थित हों देवी
शक्ति रूप में ?
क्या विजेताओं की क्रूरता में ?
या घातक विध्वंसक षड्यन्त्रकारियों की भुजाओं में ?
ताकि कर सकें होलोकास्ट (सर्वनाश)
एक शान्तिप्रिय और अहिंसक सभ्यता का ।

हम दास हैं या दस्यु
या फिर असुर हैं,
राक्षस हैं,
‘दिति’ के पुत्र
देवों के भाई दैत्य हैं,
हम द्रविड़ हैं
अनास हैं
अनार्य हैं ?

अपने ही बन्धु-बान्धवों की
हत्यारी देवी की आरती में
नाचते
सुध-बुध खोए
हम कौन हैं ?

समाज के बाहर
नगरों से बहिष्कृत
वह ढोल जो हमारे गले में था[1]
कैसी चालाकी हे देवि !
कि वह तेरी आरती में
बजाया जा रहा
और हम अपने ही पूर्वजों
के हत्यारे की उपासना के
जश्न में नाच रहे हैं !

शहरों–नगरों और सभ्य समाज से
निकाले गए
हम रोमा जिप्सी[2] हैं ?
जहाँ ख़त्म होता है शहर
और शहर की गन्दगी होती है जमा
वहीं कहीं जरायमपेशा झोपड़ियों में
या फिर हार्लेम
या घेट्टो[3] में,
न्यूयार्क की काली बस्तियों में
लैंग्स्टन ह्यूज़ के उदास गीतों में
गैर शास्त्रीय और लोकसँगीत
और आदिम नृत्यों में
ख़ुद को भुलाए रखा ।

अच्छा होता
नष्ट हो गए होते हम
’इँकाओं’ और
‘मय’ की तरह
या फिर
‘रेड इण्डियनों’ या
‘एजटेक[4] की तरह ।
 
हम, हम न होते
हम वही होते, जो हम न होते
अच्छा होता बेबीलोन नष्ट हो गया होता
दजला-फ़ुरात नदियाँ सूख जातीं
अवश गुलामी की चरम परवशता

जब ‘हम्मूराबी’[5] भी मैं हूँ
मुद्दई भी मैं ही हूँ
मुद्दालाह भी मैं हूँ
जज की कुर्सी पर
मैं ही आसीन हूँ;[6]
जिरह मैं ही करूँगा
और ख़ुद को सज़ा (-ए-मौत ) भी
मैं ही दूँगा ।

किस कसूर की
मालूम नहीं,
क्योंकि मैं एक द्रविड़ हूँ
और रावण भी द्रविड़ था, एक राक्षस था ।

और साथ ही वह एक ब्राह्मण भी है
एक (विश्रवा) मुनि का पुत्र है
और परम ज्ञानी है
और वे उसे मारते हैं
और मरते हुए रावण से शिक्षा लेते हैं,

और हम ... (हम रावण के वंशज)
रावण के पुतले में आग लगाते है;
कमज़ोर और निष्कपट पर
षड्यन्त्र और धूर्तता और चालाकी की जीत
‘“या देवी सर्वभूतेषु हत्यारी रूपेण संस्थिता ,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ।”

शब्दार्थ
  1. चीनी यात्री ह्वेनसाँग ने (हर्षवर्धन के राज्य काल में) अपने भारत-भ्रमण पर लिखी पुस्तक में यह ज़िक्र किया है की शूद्रों को शहर के बाहर रखा जाता था और उनके गले में एक ढोल लटका रहता था, जिसे उन्हें शहर में प्रवेश करते समय पीटते रहना पड़ता था ताकि सवर्ण उनकी परछाईयों से बच सकें।
  2. पूरे विश्व में फैले रोमा जिप्सियों को भी जरायमपेशा जाति माना जाता है तथा उन्हें शहरों से बाहर रखा जाता है। रोमा जिप्सियों को भारतीय डोम जाति से जोड़ा जाता है जो ईसा की दूसरी-तीसरी शताब्दी में भारत से बाहर निकले और पूरे विश्व में फैल गए । दक्षिण फ़्रांस में रोमा जिप्सियों ने एक मन्दिर जैसे स्थापत्य वाले कमरे में ’काली’ की प्रतिमा रखी है, जिसका रँग बिलकुल काला है, जिसे वे “सारा-ए-काली” कहते हैं।
  3. हार्लेम और, घेट्टो – अफ़्रीकी नीग्रो लोगो की बस्तियाँ ।
  4. इँका, मय, एजटेक, रेड इण्डियन – लातिनी अमेरिकी सभ्यताएँ, जिन्हें साम्राज्यवादी यूरोपियनों ने अपने साम्राज्यवादी विस्तार, लोभ एवँ लालच में नष्ट कर दिया ।
  5. हम्मुराबी : ईसा पूर्व १७९२ से ईसा पूर्व १७५० तक बेबीलोन (आधुनिक इराक) पर राज करनेवाला राजा, जिसने विश्व को पहली बार लिखित कानून दिया, जिसे ’हम्मुराबी संहिता’ कहा जाता है ।
  6. जार्ज बुश ने कहा था की सद्दाम हुसैन को सज़ा देने के लिए अमेरिकी जजों की जगह इराकी जजों की नियुक्ति होगी तथा वे ही फ़ैसला देंगे ।