भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अदायगी / तसलीमा नसरीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: तसलीमा नसरीन  » अदायगी

ब्रह्मपुत्र मुझे पहले की तरह
बार-बार पास नहीं बुलाता
मुझे भूल गया है जितना मैं भी भूल गई हूँ उतना।

तुम एक बार प्यार न करके ही देखो
एक बार पास न बुलाकर
भूलोगे जितना
उससे ज़्यादा भूलूँगी मैं।
अगर रह सको तो बदन छिपाकर रहो
सौ नाखूनों से नोंचकर
उघाड़ दूंगी तुम्हारा चैन।

मूल बांग्ला से अनुवाद : मुनमुन सरकार