भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अदृश्य होने से पहले / उदयन वाजपेयी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अदृश्य होने से पहले
शाम हर ओर फैला रही है
अपना महीन जाल

हर अवसाद में
स्पन्दित होने लगा है
हरेक अवसाद