भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अद्भुत समय / सुभाष मुखोपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: सुभाष मुखोपाध्याय  » अद्भुत समय

यह एक बड़ा अद्भुत समय है
पुरानी बुनियादें जब
रेत की तरह ढह रही हैं
हम भाई-बंधु ठीक तभी
टुकड़ों-टुकड़ों में बँटे जा रहे हैं!
किसने अपनी आस्तीन के नीचे
जाने किसके लिए
कौन-सी हिंस्रता छुपा रखी है
हमें नहीं पता,
कंधे पर हाथ रखते हुए भी अब डर लगता है।
अंधेरे में चिरी हुई जीभें
जब फुसफुसाती हैं
तो लगता है कोई हमें अदृश्य आरी से
बहुत महीन टुकड़ों में काट रहा है।
जब
एक साथ मुट्ठी भींचकर खड़ें हो सकने से ही
हम सब कुछ पा सकते थे -
तब
विभेद का एक टुकड़ा माँस मुँह में खोंसकर
चोरों के झुण्ड
हमारा सर्वस्व लिए जा रहे हैं!!


मूल बंगला से अनुवाद : उत्पल बैनर्जी