भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अधरों पे हँसी / ज्योत्स्ना शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

{KKGlobal}}

1
नन्हा बटोही
चला गुनगुनाता
नीले पथ पे ।
2
उजली लगी
नन्हें से अधरों पे
बिखरी हँसी ।
3
उठे जो नैन
प्रेम भरे मुख पे
फैला आलोक ।
4
हुई बावरी
सागर की बाँहों में
सिमटी,मिटी।
5
झुके पहाड़
आँधी में रजकण
चढ़ते शीश ।
6
नदी तट पे
अनगिन चिताएँ
ये भी उजाला !
7
चर्चा भी चली
गीत पे पवन के
झूमी जो कली ।
8
जीवन-राह
जुगनू से चमके
तेरे दो नैन ।
9
नींव मुस्काई
उसने जो घर की
देखी ऊँचाई ।
10
नील कमल !
शांत झील ने गाई
मीठी ग़ज़ल ।
11
न आँसू तुम
कजरा भी नहीं हो
नैनों में बसे।
12
गिर कर भी
चली तुम्हारी ओर
सागर पिया।