भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अधिकारी / राजेन्द्र किशोर पंडा / दिनेश कुमार माली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रचनाकार: राजेन्द्र किशोर पंडा (1944)

जन्मस्थान: बाटलगा, संबलपुर

कविता संग्रह: गौण देवता(1972), शतद्रु अनेक(1977), निज पाइँ नाना वाया(1980), चौकाठरे चिरकाल(81), शैलकल्प(1982), अन्या (1988), बहुव्रीहि(1991)


गुणा-भाग में वह भारी धुरंधर
चावल और भूसे में न समझे कोई अंतर
बालू और कांच का वह बनाता पहाड़
घेरे हुए चारों ओर चींटीयों के हाड़
बार बार रेंगते दिखाता है फण
पार नहीं करता रेखा-लक्ष्मण
असार आदमी बार- बार कहता हैं `सर`'सर'
छोंक देता इस पार, छींक देता उस पार
तल के ऊपर तल, उसके ऊपर और तल-तल
नरक के गुलाल से सारे प्राणियों में हलचल
चेहरे पर हंसी का दिखावटी दर्पण,दिल में खाली खोखलापन
कहीं पर गजब का भोलापन, कहीं पर अजब का चालूपन

कलम-रेखा से बनाते कुत्ते को बिल्ली
शिशु- झूले के पास करते पशु-केलि
बिकता है जिसका विवेक मेज के नीचे
करे हितोपदेश वही अधिकारी आँखें मींचें
मुंह में राम बगल में छुरी
अवैध कारोबारों में भक्ति पूरी
गुणा-भाग में वह भारी धुरंधर
पत्थर और ईश्वर में न जाने कोई अंतर ।