भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अधिनायक कोड़ा / राजेन्द्र गौतम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हत-चेतन संज्ञाएँ,
केवल
उपसर्ग बदलते हैं !

‘निर्वाचन’ की
परम्परा ने
थक कर दम तोड़ा
लोकतन्त्र की
छिली पीठ पर
अधिनायक कोड़ा
अक्षत-अक्षर वर्णों के
कब वर्ग बदलते हैं ?

वैध-अवैध
समासों ने कुछ
ऐसे कसे शिकँजे
जन की छाती
चढ़ी सँधियाँ
नोच रहे तन पँजे
वही व्याकरण
काशी का , कब–
गुलमर्ग बदलते हैं ?