भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अधिनायक वंदना / गोरख पाण्डेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जन गण मन अधिनायक जय हे  !


जय हे हरित क्रांति निर्माता

जय गेहूँ हथियार प्रदाता

जय हे भारत भाग्य विधाता

अंग्रेज़ी के गायक जय हे ! जन...


जय समाजवादी रंग वाली

जय हे शांतिसंधि विकराली

जय हे टैंक महाबलशाली

प्रभुता के परिचायक जय हे ! जन...


जय हे ज़मींदार पूंजीपति

जय दलाल शोषण में सन्मति

जय हे लोकतन्त्र की दुर्गति

भ्रष्टाचार विधायक जय हे ! जन...


जय पाखंड और बर्बरता

जय तानाशाही सुन्दरता

जय हे दमन भूख निर्भरता

सकल अमंगलदायक जय हे ! जन...


(रचनाकाल : 1982)