भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अधुरापन / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ दर्द के लम्हें...
एकाकी और अधूरापन का साथ...
जमाने भर की शिकायतें जमाने से
अधूरा नसीब...
पुरानी बातें,
नए जख़्म...
जिंदगी की उधेड़बुन...
उकसाता है मुझे मेरे अंतर्मन को...
कुछ लिखने को कुछ रंगने को
ताकि मैं कुछ भरपाई कर पाऊँ
इस अधूरेपन भरी ज़िन्दगी को...