भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अध:पतन / लीलाधर जगूड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इतने बड़े अध:पतन की ख़ुशी
उन आँखों में देखी जा सकती है
जो टंगी हुई हैं झरने पर
ऊँचाई हासिल करके झरने की तरह गिरना हो सके तो हो जाए
गिरना और मरना भी नदी हो जाए
जीवन फिर चल पड़े
मज़ा आ जाए

जितना मैं निम्नगा होऊँगा
और और नीचे वालों की ओर चलता चला जाऊँगा
उतना मैं अन्त में समुद्र के पास होऊँगा
जनसमुद्र के पास

एक दिन मैं अपार समुद्र से उठता बादल होऊँगा
बरसता पहाड़ों पर, मैदानों में
तब मैं अपनी कोई ऊँचाई पा सकूँगा
उजली गिरावट वाली दुर्लभ ऊँचाई

कोई गिरना, गिरने को भी इतना उज्ज्वल बना दे
जैसे झरना पानी को दूधिया बना देता है।