भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनपढ़ रहणा ठीक नहीं सै यू भी मोटा चाला / सतबीर पाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अनपढ़ रहणा ठीक नहीं सै यू भी मोटा चाला
शिक्षा के बिना सुधर सकै ना रहै हार मैं पाला...टेक

सबतै पहलै हर माणस नै चाहिए अक्षर ज्ञान दिखे
लड़का-लड़की खूब पढ़ाओ समझो एक समान दिखे
पूरा राखो ध्यान पढ़ण मैं होज्या फेर उजाला...

अनपढ़ माणस हाथ मारता फिरता रहे अंधेरे मैं
सब तरियां तै दुखी रहै सै अनपढ़ता के झेरे मैं
हो शिक्षा बड़े बड़ेरे मैं कुछ कर ले नै उपराला...

खूब पढ़ाई करनी चाहिए ठाले हाथ किताब दिखे
दुनियादारी के बारे में आज्या तनै हिसाब दिखे
भैंस बराबर कोन्या दिक्खै फेर या अक्षर काला...

इसा सुनहरी मौका आया तज द्यो ख्याल पुराणा
शिक्षा बिन कुछ कदर नहीं सब छोड़ो गूंठा लाणा
चाहिए फायदा ठाणा कहें सतबीर यू पाई वाला...