भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनुपस्थित / स्वप्निल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस फ़ोटो में तीन लोग है
स्त्री दिखाई नही दे रही है
लेकिन वह अनुपस्थित नही है

वह एक लुप्त नदी की तरह
उन दोनों के बीच बह रही है

जिन चीज़ों को हम देख नही पाते
वे हमारे बीच रहती हैं

हवा को हम देख नही पाते
लेकिन वह हमें जगह-जगह से
छूती है

स्त्रियाँ भले ही हमसे दूर या अदृश्य हों
वे हमारे भीतर मौजूद रहती हैं ।