भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अन्तर्दाह / पृष्ठ 17 / रामेश्वर नाथ मिश्र 'अनुरोध'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मंगल मरन्द की मृदुता
मल दी नितम्ब में कितनी
फिसलन चिकनाहट रहती
कदली- स्तम्भ में जितनी।।८१।।

अश्रुत अदृष्ट अनलंकृत
कल्पनातीत वह छवि थी
साकार सिद्धि थी अथवा
सौन्दर्य यज्ञ के हवि की ।।८२।।

अम्बर में इन्द्रधनुष - सी
घन सघन बीच चपला-सी
वह मूर्ति बसी नयनों में
रजनी में चन्द्रकला - सी ।।८३।।

सौन्दर्य पराजित होकर
था दूर लजाता खुद से
वह रूप देख होते थे
मेरे दृग-मृग बेसुध- से ।।८४।।

वह थी मधुमयी कहानी
वह कैसा था मधुमय स्वन!
मैं था वह मधुरस पीता
उस माधुरि में मधुमय बन ।।८५।।