भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अन्तर्दाह / पृष्ठ 20 / रामेश्वर नाथ मिश्र 'अनुरोध'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


सौरभ निकुञ्ज पाली में
रजनी चन्द्रिका बिछाये
स्वागत करती थी मेरा
मणियों के दीप सजाये ।।९६।।

रजनी की तम - सरिता में
था चाँद विहँसता तिरता
मधुकण का भार सँजोए
मादक मारुत था फिरता ।।९७।।

रजनी के वक्षस्थल पर
सोता शशि, सीकर ढुलता।
नट - खट समीर से चंचल
अंचल पल-पल में खुलता।। ।।९८।।

झिलमिल मलयानिल चलकर
सुमनों की सेज सजाता
स्वप्निल अलसित आँखों से
झट-पट न वस्त्र हट पाता ।।९९।।

अब चाँद अग्नि बरसाता
अम्बर झरता ज्वाला-कण
लू लिए पवन है आता
जलता रे जीवन क्षण-क्षण ।।१००।।