भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अन्तर्दाह / पृष्ठ 34 / रामेश्वर नाथ मिश्र 'अनुरोध'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


क्यों अमानिशा छाई है
इस चक्रवाक के सुख में ?
है संगी कौन यहाँ पर
जो साथ मेरा दे दुख में ?।।१६६।।

सुख सुख के हैं सब साथी
दुख में न कोई संग देता
है साथी वही जगत में
जो दोनों में रंग लेता ।।१६७।।

निर्वाण करूँ क्या लेकर
लौटेगी बाजी हारी
उस शून्य हृदय-मंदिर का,
मैं केवल प्रेम - पुजारी ।।१६८।।

यह हृदय लबालब मेरा
तुम यों न बनो अनजानी !
पैरों की ललित गुलाली
देखूँ, हे मन की रानी ! ।।१६९।।

क्यों शमित हो गयी पाकर
आँसू को शीतल ज्वाले
बुझकर भी छोड़ गई हो
उर में बुल्ले - से छाले ।।१७०।।