भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अन्तर्दाह / पृष्ठ 37 / रामेश्वर नाथ मिश्र 'अनुरोध'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मेरे गीले गालों पर
फूटे पल्लव की लाली
जीवन-पथ चमक रहा हो
दुबकी हो रजनी काली ।।१७६।।
 
जीवन सरिता बहती है
दुख-सुख जिस के दो तट हैं
वेदना लहरियाँ जिस की
आवर्त्त विरह - झंझट हैं ।।१७७।।

दुख ही है सत्य जगत में
सुख है केवल कुछ दिन का
सुख-दुख के चक्र निरन्तर
चलते, स्थिर सुख किनका ? ।।१७८।।

इस क्षणभंगुर जीवन में
दुख ही है सत्य चिरंतन
ओ मेरे उर के वैभव
तेरा शत-शत अभिनंदन ।।१७९।।

दुर्दांत विरह का कटु फल
लटका है क्षणिक भुवन में
आनंद कहाँ मिल सकता
इस छोटे से जीवन में ? ।।१८०।।