भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अन्तिम सुबह / बालकृष्ण काबरा ’एतेश’ / ओक्ताविओ पाज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारे केश
जंगल में खो गए हैं,
तुम्हारे पैर छू रहे हैं मेरे पैर।

सोए हुए तुम
रात से भी बड़े लगते हो,
लेकिन तुम्हारे सपने
समा जाते हैं इस कमरे के भीतर ही।

हम जो छोटे हैं आख़िर हैं कितने बड़े !

बाहर गुज़रती है एक टैक्सी
प्रेतों से भरी।

पास ही बहने वाली नदी
                   हमेशा
बहती है उल्टी।

क्या कल का दिन होगा कुछ और ?

अँग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा ’एतेश’