भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अन्दर आना मना है / तानूर ओजाइडे / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं न तो लाल कपड़े पहनता हूँ,
न ही कट्टर धार्मिक लोगों की तरह सफ़ेद कपड़े
मुझे इग्बा के मन्दिर में घुसने नहीं दिया जाता।
मैं अजनबी हूँ

उन्हें भी इल्लियों से दूर रखा जाए
मन्दिरों में इलाज करने वाले उन वैद्य-हक़ीमों से।

हर मछली जाल में नहीं फँस सकती
गोलियों के धमाकों से कछुए नहीं डरा करते
इस धमाके की पहुँच से बाहर हैं वे।

पीने के लिए पानी मुझे देने के बजाय,
उन्होंने उसे छोड़ दिया है
इल्लियों के तैरने के लिए।

क्या आपको यही बातें परेशान नहीं करतीं
क्या आपको यही हरकतें काटती नहीं है
ख़ून और खपरे के तेल के बारे में सोचो।

ज़िन्दगी बदलती है,
बाप-दादों ने कहा हमसे।

कितनी बार मैंने इनकार किया
जिनसे
मुझे बचाने के लिए आए क्या वे सब?

जिन लोगों ने हम पर ध्यान नहीं दिया
हम पर हँसने के लिए वे
घर से बाहर निकल आए

जीवन बहुत गहरा है,
उसकी मंज़िल का कोई ठिकाना नहीं।

मैं बहुत दूर तक नहीं चला था
जब एक तूफान ने मुझे भिगा दिया था।

रूसी से अनुवाद : अनिल जनविजय

लीजिए, अब यही कविता मूल उर्होबो भाषा में पढ़िए
ARUO-O

Mi kue ibosu vwiyo-o
mi kue ukpebo vwiyo-o.
Ane me rue ogua r’Egba-a.
Mevwe orharha.
Agba je dje idimarha
ne evu r’ogua r’adjene.
Odie iyeri eje
ariri mue-e.
Ohwunu de she,
odie efoke r’arirhiri-i.
Ona vaye abo.
Ukpe avwe ame ke vwe da,
aya jovwo k’idimarha vwo ho.
Obo re se ohwo okpo
v’obo re rhovwo ohwo
die ovuovo-o.
Ne obara ve ofigbo so.
"Akpo wene"
ode omo r’omiovwon.
Brabo obo ase ke vwe
rhuere rhoma si vwe?
Ire sie ero nu
cha be ero kue avware.
Akpo okokodo,
amre oto roye-e.
Me ya sheri
ogiribo ki hwe vwe-e.



Charlotte, NC
March 29, 2004

लीजिए, अब अँग्रेज़ी में इस कविता का अनुवाद पढ़िए
NO ADMITTANCE

I wear neither the red, nor
the white uniform of sectarians.
I am forbidden from Egba's shrine.
I am the stranger.
Let them also keep away the larvae
from the medicine-man's shrine.
Not every fish
can be caught with a net.
When a gun explodes,
fear not for the tortoise.
This one has eluded them.
Instead of giving me water to drink,
they left it for larvae to swim.
What irritates you
and what bites you
aren't the same.
Think of blood and palm oil.
"Life changes,"
elders impress on all.
How many times what I am denied
turns out to save me?
Those we have ignored
turn out to laugh at us.
Life is so deep,
its end cannot be seen.
I didn't go far
before a thunderstorm soaked me.