भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अपणायत : एक लखाव / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नितूका
मिलै-मुळकै लोग

एढ़ै-टांकाडै
गनो निभावती
     सांस
रोजीना आवै-जावै

पण अठै
ना अपणायत
    ना हेत

ऐड़ी गत में जीणो
जाणै
तपतै धोरां माथै
     अंत बिहूणी जात्रा

बीं माथै
माठै मनां चालणो
फाटियोड़ा जूता पैरियां
जिकां में
भरीजती रैवै
         रेत !