भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपना-अपना वर्तमान / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पीले पते-सा चेहरा लिए
हंसा वह आदमी
हंसी लेकिन उसकी
भर न सकी कहीं पुलक कोई
हताशाओं का इतिहास ओढ़े वर्तमान था वहां
टिमटिमा रहे थे कहीं दूर जो दीप एक-दो
  लो,अब तो उनमें भी न रही लौ !

खिले फूल-सा चेहरा लिए
दूधिया दांतों की छ्टा दिखाती
खिलखिलाई जो मुनिया
भर गया हर तरफ आलोक मनभावन
खुल-खुल गए निश्छलता के पृष्ठ-दर-पृष्ठ
आशाओं-उमंगों का दुशाला ओढ़े वर्तमान था वहां
जगमगा रहे थे दूर कहीं दीप असंख्य !