भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपना अपना दुख / शहराम सर्मदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बचपन से
अम्माँ से सुना करते थे
'पाँचों उँगलियाँ एक बराबर नहीं होतीं'

लेकिन पिछले कुछ बरसों से
अम्माँ मँझली उँगली को
खींच रही हैं
कहती हैं :
'उस को कैसे छोड़ूँ
पीछे रह जाएगी'

मँझली उँगली भी तो आख़िर जानती होगी
'पाँचों उँगलियाँ एक बराबर नहीं होतीं'

पीछे रह जाने का दुख तो मँझली उँगली सह जाएगी
लेकिन छोटी उँगली?
जिसे दबा कर
अम्माँ मँझली उँगली खींच रही हैं