भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपना अहवाल-ए-दिल-ए-ज़ार कहूँ / ग़ालिब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये न थी हमारी क़िस्मत के विसाले यार [1]होता
अगर और जीते रहते यही इन्तज़ार होता

शब्दार्थ
  1. प्रिय से मिलन