भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपना दीवाना बना कर ले जाए / 'आफ़ताब' हुसैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपना दीवाना बना कर ले जाए
कभी वो आए और आ कर ले जाए

रोज़ बुनियाद उठाता हूँ नयी
रोज़ सैलाब बहा कर ले जाए

हुस्न वालों में कोई ऐसा हो
जो मुझे मुझ से चुरा कर ले जाए

रंग-ए-रुख़्सार पे इतराओ नहीं
जाने कब वक़्त उड़ा कर ले जाए

किसे मालूम कहाँ कौन किसे
अपने रास्ते पे लगा कर ले जाए

'आफ़ताब' एक तो ऐसा हो कहीं
जो हमें अपना बना कर ले जाए