भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपनी ओर मोड़ लूँ / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


पहाड़ होता तो तोड़ ही देता
रस्सी होती तो जोड़ ही देता
धन होता तो छोड़ ही देता
फौलाद होता तो मोड़ ही देता
तेरा दुःख इन सबसे ऊपर है
न टूटता है, न छूटता है
न मुड़ता है
बस मुझे मथता है रात दिन
तड़पाता है हर छिन
कोई उपाय ऐसा पाऊँ
कि
किसी ऐसे लोक चला जाऊँ
जहाँ जाकर
तेरे सारे दुःख ओढ़ लूँ
सभी बाणों की नोकें
अपनी ओर मोड़ लूँ।