भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अपनी बेकारी ने यह काम किया / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपनी बेकारी ने यह काम किया।
घर छोड़ हर गली तक बदनाम किया।

यहां नहीं, चलो वहां मिल जायेगी,
इसी उम्मीद में भूगोल नाप लिया!

दस्तूरे-दफ़्तर देखा है अजीब,
पूछ्ते- पहले कहीं कुछ काम किया?

लाख बार ढूंढ़ा, नाम नहीं पाया,
हमने तो अख़बार सुबह-शाम लिया।

अब किससे, कहां, किस तरह करें बात,
इतना समझा हमें सरेआम दिया!