भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपनी भाषा / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जय हो हिन्दी भाषा की
भारत की निज भाषा की
देवि शारदे दे दो हमको
हिन्दी बिन्दी का अभिमान
मस्तक पर धारण कर इसको
करें निछावर अपने प्राण
पूर्ति बने अभिलाषा की
जय हो हिन्दी भाषा की
अब भारत की धरती अपनी
नील गाग्न भी अपना है
खिले भाव की मधुर चाँदनी
यही हमारा सपना है
हो उन्नति इस भाषा की
जय हो हिन्दी भाषा की