भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपनी रेल / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उत्तर -दक्षिण, पूरब -पश्चिम
आती -जाती अपनी रेल ।
गाँव, नगर और बस्ती में,
हरदम दौड़ लगाती रेल ।
  
सबको यह अपना माने,
इसको कोई भार नहीं ।
        छोटे और बड़े का इसमें
        होता कभी विचार नहीं ।

नदियाँ घाटी या मैदान
हरे खेत या रेगिस्तान ।
सबकी मिलती गोद इसे
सबका पाती यह सम्मान ।

सफ़र प्रेम से कट जाता,
दु:ख मिल-जुल कर बँट जाता।
मेल-जोल है बढ़ जाता
        वैर-भाव सब घट जाता ।