भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अपने अलावा ग़ौरतलब और कुछ न था / आलोक श्रीवास्तव-१

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने अलावा ग़ौरतलब और कुछ न था,
रिश्तों के टूटने का सबब और कुछ न था ।

बस एक तुम्हारे नाम की हो उभरी हुई लकीर,
मेरी हथेलियों को तलब और कुछ न था ।