भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने अलावा ग़ौरतलब और कुछ न था / आलोक श्रीवास्तव-१

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने अलावा ग़ौरतलब और कुछ न था,
रिश्तों के टूटने का सबब और कुछ न था ।

बस एक तुम्हारे नाम की हो उभरी हुई लकीर,
मेरी हथेलियों को तलब और कुछ न था ।