भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने जज़्बात छुपा कर रक्खें / कैलाश मनहर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने जज़्बात छुपाकर रक्खें ।
जीभ दाँतों में दबाकर रक्खें ।

हर तरफ़ आग लपलपाती है,
आप दामन को बचाकर रक्खें ।

जाने कब साथ छोड़ दें खुशियाँ,
ग़म को सीने से लगाकर रक्खें ।

जम्हूरियत की मत करें बातें,
हक़-ए-इनसाफ़ भुलाकर रक्खें ।

सवाल करने की हिम्मत न करें,
सर-ओ-नज़र को झुकाकर रक्खें ।